Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 2 min read

तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल

‘वृहद हिंदी शब्दकोश’ [ सम्पादक- कालिका प्रसाद ] के षष्टम संस्करण जनवरी-1989 के पृष्ठ490 और 493 पर तेवर [ पु. ] शब्द का अर्थ- ‘क्रोधसूचक भ्रूभंग’, ‘क्रोध-भरी दृष्टि’, ‘क्रोध प्रकट करने वाली तिरछी नज़र’ बताने के साथ-साथ ‘तेवर बदलने’ को- ‘क्रुद्ध होना’ बताया गया है | ‘तेवरी’ [ स्त्रीलिङ्ग ] शब्द ‘त्यौरी’ से बना है | त्यौरी या ‘तेवरी’ का अर्थ है – ‘माथे पर बल पड़ना’ , ‘क्रोध से भ्रकुटि का ऊपर की और खिंच जाना’ |
वस्तुतः तेवरी सत्योंमुखी चिन्तन की एक ऐसी विधा है जिसमें शोषण , अनीति, अत्याचार आदि के प्रति स्थायीभाव ‘आक्रोश’ से ‘विरोधरस’ परिपक्व होता है |
8वें दशक के प्रारम्भ में व्यवस्था-विरोध के तेवर को ‘तेवरी’ के रूप में स्थापित करने का श्रेय डॉ. देवराज और ऋषभदेव शर्मा देवराज को जाता है |
तेवरी विधा को स्थापित करने के लिए एक आन्दोलन का रूप प्रदान करने में रमेशराज ने प्रमुख भूमिका निभाई है| इनके सम्पादन में तेवरी विधा की त्रैमासिक पत्रिका ‘तेवरीपक्ष’ का प्रकाशन सन 1982 से निरंतर अब भी जारी है | इसके अलावा ‘अभी जुबां कटी नहीं’, ‘कबीर ज़िन्दा है’, ‘इतिहास घायल है’ नामक तेवरी संग्रहों में देश के अनेक ख्यातिप्राप्त रचनाकारों की तेवरियाँ संग्रहीत हैं , जिनका सम्पादन रमेशराज ने किया है |
एक तरफ तेवरीकार दर्शन बेज़ार के तीन तेवरीसंग्रह ‘एक प्रहार: लगातार’, ‘देश खंडित हो न जाये’, ‘खतरे की भी आहट सुन’ प्रकाशित हुए हैं।
तेवरी आन्दोलन के प्रमुख हस्ताक्षर रमेशराज के तेवरी संग्रह ‘दे लंका में आग’, ‘जय कन्हैया लाल की’, ‘घड़ा पाप का भर रहा’, ‘मन के घाव नये न ये’, ‘धन का मद गदगद करे’, ‘ककड़ी के चोरों को फांसी’, ‘मेरा हाल सोडियम-सा है’, ‘रावण कुल के लोग’, ‘अंतर आह अनंत अति’, ‘पूछ न कबिरा जग का हाल’ ‘बाजों के पंख क़तर रसिया’, ‘रमेशराज के चर्चित तेवरी-संग्रह’ आदि ने अच्छीखासी ख्याति अर्जित की है |
तेवरी विधा में रस की समस्या के समाधान के लिए श्री रमेशराज ने एक नये रस ‘ विरोधरस ‘ की स्थापना की है| ‘विरोधरस’ नामक पुस्तक का साहित्यजगत ने पूरी गर्मजोशी से स्वागत किया है | रमेशराज का तेवरी शतक-‘ऊधौ कहियो जाय’ भी मौलिक कथन और छन्दों के नूतन प्रयोगों से युक्त होने के कारण अत्यंत चर्चित हुआ है |
तेवरी आन्दोलन आज पूरे हिंदी साहित्य में अपनी उपस्थिति दर्ज़ करा रहा है |

Language: Hindi
48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
'अशांत' शेखर
एक प्रभावी वक्ता को
एक प्रभावी वक्ता को
*Author प्रणय प्रभात*
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मां शैलपुत्री देवी
मां शैलपुत्री देवी
Harminder Kaur
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
* मन कही *
* मन कही *
surenderpal vaidya
2864.*पूर्णिका*
2864.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
बाबूजी
बाबूजी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"पल-पल है विराट"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
हो तेरी ज़िद
हो तेरी ज़िद
Dr fauzia Naseem shad
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
Loading...