Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

तेरे हम है

***तेरे हम है***
तू तो नही है
मगर तेरे हम है
तूने दिया दगा
पर तेरे गम तो
मेरे संग संग है ।
आंखों में और कोई
जुवा पर तो हम है
सुन वेबफा सुन
तेरे फिर क्यों हम है ।।
कातिल अदायें तेरी
वैसा ही दिल है
नसीबा बिगाडा तूने
यू ही मुस्कराकर
यू ही मुस्कराकर
तूने किए क्यों सितम है ।।
***दिनेश कुमार गंगवार ***

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
Neeraj Agarwal
🌸 सभ्य समाज🌸
🌸 सभ्य समाज🌸
पूर्वार्थ
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
■ एक मार्मिक तस्वीर पर मेरा एक तात्कालिक शेर :--
■ एक मार्मिक तस्वीर पर मेरा एक तात्कालिक शेर :--
*प्रणय प्रभात*
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बदला लेने से बेहतर है
बदला लेने से बेहतर है
शेखर सिंह
सेज सजायी मीत की,
सेज सजायी मीत की,
sushil sarna
3105.*पूर्णिका*
3105.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
यादें
यादें
Dr. Rajeev Jain
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
माँ शेरावली है आनेवाली
माँ शेरावली है आनेवाली
Basant Bhagawan Roy
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
Suryakant Dwivedi
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"आम"
Dr. Kishan tandon kranti
71
71
Aruna Dogra Sharma
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
*मृत्यु (सात दोहे)*
*मृत्यु (सात दोहे)*
Ravi Prakash
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
Loading...