Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2022 · 1 min read

तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मैं कैसे

तेरे मन मन्दिर में जगह बनाऊं मै कैसे,
बिन बाती तेल के दीप जलाऊं मै कैसे।

तड़फ तड़फ कर मर जाऊंगी मै बिन तेरे,
पास नहीं तुम मेरे,अपना दर्द सुनाऊं मैं कैसे।

बढ़ती नहीं है आगे जिंदगी अब बिन तेरे,
बीते हुए लम्हों को अब भुलाऊ मै कैसे।।

आती नहीं है नींद रात में अब बिन तेरे,
चांदनी रात में अपने को सुलाऊं मै कैसे।।

आते नहीं जब तुम गमगीन दिल हो जाता है मेरा,
इन हालातो में दिल को दिलासा दिलाऊं मै कैसे।।

चाहता है रस्तोगी,तेरे दर्द को बयां कर दू सबको,
स्याही अब सूख गई,कागज पर लिखाऊ मै कैसे।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

6 Likes · 6 Comments · 533 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
■ मिली-जुली ग़ज़ल
■ मिली-जुली ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
Surinder blackpen
अफसोस
अफसोस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
महाराणा प्रताप
महाराणा प्रताप
Satish Srijan
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
कवि दीपक बवेजा
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारा साथ और यह प्यार
हमारा साथ और यह प्यार
gurudeenverma198
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
Suryakant Dwivedi
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थियोसॉफिकल सोसायटी की एक अत्यंत सुंदर *यूनिवर्सल प्रेयर* है जो उसके सभी कार्यक्र
थियोसॉफिकल सोसायटी की एक अत्यंत सुंदर *यूनिवर्सल प्रेयर* है जो उसके सभी कार्यक्र
Ravi Prakash
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
DrLakshman Jha Parimal
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
SuNo...
SuNo...
Vishal babu (vishu)
लोभ मोह ईष्या 🙏
लोभ मोह ईष्या 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
Loading...