Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

तेरे जाने के बाद ….

ऐसे उजड़े तुम्हारे जाने के बाद ,
के फिर कभी जिंदगी में बस ना पाए ।
हे पिता ! माफ करना,हम तुम्हारे अधूरे ,
ख्वाबों की ताबीर न बन पाए ।
संघर्ष बहुत झेले मगर कोशिशें भी की ,
मगर हाय अफसोस ! हम जिंदगी में ,
कामयाब नहीं हो पाए।
कुछ तकदीर का था कसूर और कुछ बेरहम जमाना .
हम अपने बदलते हालातो से तालमेल ,
न बिठा पाए ।
तुम तो चले गए हमसे बेरहमी से दामन छुड़ाकर ।
और हम तेरे जाने के बाद रंजो गम से नाता जोड़ आए।

Language: Hindi
1 Like · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अंधेरों रात और चांद का दीदार
अंधेरों रात और चांद का दीदार
Charu Mitra
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
"शायरा सँग होली"-हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
Phool gufran
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
3131.*पूर्णिका*
3131.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
Ravi Prakash
रंगों की सुखद फुहार
रंगों की सुखद फुहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मिस्टर जी आजाद
मिस्टर जी आजाद
gurudeenverma198
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
भज ले भजन
भज ले भजन
Ghanshyam Poddar
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
शाम
शाम
N manglam
Loading...