Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

*तेरे इंतज़ार में*

तुम तो कहते थे मुझे भूल जाओगे
बिताए हैं संग जो पल, याद नहीं आएंगे
हो गए हैं बरसों अब तुम्हारे बिना
नहीं भूल पाए तुम्हें, अब कैसे जी पाएंगे

है नहीं, ये भूलने का सबब कोई
यादें भूलने नहीं देगी तुझे मेरे सनम
नहीं था स्वार्थ कोई तनिक भी इसमें
तुम समझे नहीं ये प्यार, मेरे सनम

तुम्हारी मजबूरी को मान लिया हमने
तभी कोशिश नहीं की कभी मिलने की तुमसे
लेकिन दिल के आगे हम भी मजबूर है
रहेगी हमेशा इसमें आरज़ू मिलने की तुमसे

हर आरज़ू कहां पूरी हो पाती है किसी की
जानते हैं हम, फिर भी एक आस है दिल में
झांकोगे दिल में मेरे कभी, ख़ुद को ही पाओगे वहां
तब जानोगे तुम, रहता कोई ख़ास है दिल में

है सुकून इस बात का हमको
खुशी नहीं दे पाया तो दुख भी नहीं दिया तुमको
जीया हूं मैं जीतने भी पल बिछड़कर तुमसे
हर पल सिर्फ़ याद किया है तुमको

गुज़र जाएगी ये ज़िंदगी तेरी याद में
हो गई है ज़िंदगी मेरी वीरान तेरे इंतज़ार में
इस जन्म में तो मुमकिन नहीं लगता
रहेंगे अगले जन्म में भी तुझसे मिलने के इंतज़ार में।

7 Likes · 1 Comment · 1778 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
राम की आराधना
राम की आराधना
surenderpal vaidya
अर्थार्जन का सुखद संयोग
अर्थार्जन का सुखद संयोग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक अध्याय नया
एक अध्याय नया
Priya princess panwar
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आप क्या
आप क्या
Dr fauzia Naseem shad
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
गुरु
गुरु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
"तेरे वादे पर"
Dr. Kishan tandon kranti
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
Harminder Kaur
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
*Author प्रणय प्रभात*
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
बादल
बादल
Shankar suman
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
Leena Anand
Loading...