Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत

तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत, तू जाने मेरे मौला
हर कोई अपने ख़ुदा को, ख़ुद पहचाने मेरे मौला
तेरी फ़ितरत…….

बात वही सबने कही है, मीत वही हर रीत वही है
हर शय के कण-कण में रचा, अतिपावन संगीत वही है
लड़ते हैं क्यों दीवाने, एक न माने मेरे मौला
तेरी फ़ितरत…….

जब तक है ईमान तुम्हारा, तब तक ही तुम मानव हो
रक्त पिपासु अगर बन जाओ, फिर तो तुम भी दानव हो
है कोई ऐसा, जो तुझे दिल से जाने मेरे मौला
तेरी फ़ितरत…….

पाप कमाये क्यों पगले तू, ये सराए दो दिन को है
मेला ये दो पल का, काया ये किराए दो दिन को है
भेजा तूने सबको ही ये समझाने मेरे मौला
तेरी फ़ितरत……..

8 Likes · 7 Comments · 316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
💐प्रेम कौतुक-298💐
💐प्रेम कौतुक-298💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत
एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत
Annu Gurjar
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
दोहा-*
दोहा-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
कविताश्री
कविताश्री
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
*दुपहरी जेठ की लेकर, सताती गर्मियाँ आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*दुपहरी जेठ की लेकर, सताती गर्मियाँ आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
Awadhesh Kumar Singh
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
जीवन की परख
जीवन की परख
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"होली है आई रे"
Rahul Singh
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
Anil chobisa
इश्क की खुमार
इश्क की खुमार
Pratibha Pandey
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...