Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं

तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
हमे तो तेरा, सारा शहर जनता हैं
बस ख़बर नहीं तो तुम्हारें, उनको ही!
मग़र! हमे तो तेरा एक-एक रिश्तेदार जनता है

The_dk_poetry

2 Likes · 323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
Sanjay ' शून्य'
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
Ravi Prakash
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
Vishal babu (vishu)
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
"छछून्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
Manisha Manjari
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
व्यर्थ विवाद की
व्यर्थ विवाद की
*Author प्रणय प्रभात*
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
****मैं इक निर्झरिणी****
****मैं इक निर्झरिणी****
Kavita Chouhan
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-334💐
💐प्रेम कौतुक-334💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
अव्यक्त प्रेम
अव्यक्त प्रेम
Surinder blackpen
अंकित के हल्के प्रयोग
अंकित के हल्के प्रयोग
Ms.Ankit Halke jha
आओ ...
आओ ...
Dr Manju Saini
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
Radha jha
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
फ़ितरत-ए-धूर्त
फ़ितरत-ए-धूर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/75.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/75.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाबा भीम आये हैं
बाबा भीम आये हैं
gurudeenverma198
Loading...