Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 2 min read

तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

शीर्षक : तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है

जीवन में हर किसी को, एक साथ चाहिए ।
हर ले संताप हृदय का, वो सहृदय हाँथ चाहिए ।
जानता हूँ, प्रति पल का साथ मुश्किल होता है ।
शरीर से नहीं, केवल आत्मिक अनुदान चाहिए ।

जीवन में हर किसी को, एक साथ चाहिए ।

आदमी इस जगत में अकेला ही था आया ।
ऐसा ही विधि का विधान और उसकी माया ।
सजानी पड़ती है किस्मत कर्म से संस्कार से ।
जूझना होता है हर किसी को, परिवर्तन के व्यापार से
पक्का डेरा यहाँ तो, कभी न किसी का बन पाया ।

आदमी इस जगत में अकेला ही था आया ।

रजो गुण , तमो गुण , सतो गुण , निर्मित संसार है ।
त्रिगुणात्मक उसकी लीला , यही कार्मिक व्यवहार है ।
किसी में कम किसी में अधिक ये मिश्रण स्वीकार है ।
जगत के रचना कार का बड़ा अद्भुत सुन्दर संसार है ।

षड रस में आकंठ भीगा पल पल विषमताओं से घिरा ।
सुगम नहीं राह किसी की, कर्तव्य पथ कंटक से भरा ।
आशा निराशा में डूबता उभरता कभी जीतता कभी हारता ।
किसी में कम किसी में अधिक ये मिश्रण स्वीकार है ।

वैश्विक समीकरण के भिन्नात्माक परिवेश हज़ार हैं ।

जीवन में हर किसी को, एक साथ चाहिए ।
हर ले संताप हृदय का, वो सहृदय हाँथ चाहिए ।
जानता हूँ, प्रति पल का साथ मुश्किल होता है ।
शरीर से नहीं, केवल आत्मिक अनुदान चाहिए ।

जीवन में हर किसी को, एक साथ चाहिए ।

Language: Hindi
193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
रावण की गर्जना व संदेश
रावण की गर्जना व संदेश
Ram Krishan Rastogi
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सकारात्मकता
सकारात्मकता
Sangeeta Beniwal
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
Buddha Prakash
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
*गीता - सार* (9 दोहे)
*गीता - सार* (9 दोहे)
Ravi Prakash
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
💐अज्ञात के प्रति-114💐
💐अज्ञात के प्रति-114💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
कवि रमेशराज
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
2811. *पूर्णिका*
2811. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
■ एक शेर में जीवन दर्शन।
■ एक शेर में जीवन दर्शन।
*Author प्रणय प्रभात*
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
Every morning, A teacher rises in me
Every morning, A teacher rises in me
Ankita Patel
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
माना   कि  बल   बहुत  है
माना कि बल बहुत है
Paras Nath Jha
दुख
दुख
Rekha Drolia
कर दिया
कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
देश जल रहा है
देश जल रहा है
gurudeenverma198
Loading...