Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

तू कहता क्यों नहीं

रहता है दूर तुमसे, लेकिन
दिल के करीब हो गया है
तू जानता नहीं है
उसे भी इश्क हो गया है

देखता है वो भी तुमको
तेरे ख्वाबों में खो गया है
तू समझता ही नहीं
वो ज़माने से डर गया है

कह रही है आंखें उसकी
जिनमें तू खो गया है
तू जाने क्यों सुनता नहीं
ये तुझको क्या हो गया है

शर्मो हया का लिहाज़ है उसको
लेकिन अब वक्त आ गया है
तू कहता क्यों नहीं
तेरा दिल भी उस पर आ गया है

होगी उसको भी खुशी बहुत
अब उसका भी सब्र टूट गया है
जाकर उससे कहता क्यों नहीं
जो तेरे प्यार में अब टूट गया है

महसूस करोगे धड़कनों को जब
मालूम चलेगा तू क्या पा गया है
उससे मिलता क्यों नहीं
जो मन ही मन अब तेरा गया है

Language: Hindi
13 Likes · 2 Comments · 928 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
"कोरोना बम से ज़्यादा दोषी हैं दस्ता,
*Author प्रणय प्रभात*
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बसंती बहार
बसंती बहार
Er. Sanjay Shrivastava
काग़ज़ पर उतार दो
काग़ज़ पर उतार दो
Surinder blackpen
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
मैं उड़ सकती
मैं उड़ सकती
Surya Barman
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
गीत शब्द
गीत शब्द
Suryakant Dwivedi
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
Shweta Soni
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
💐प्रेम कौतुक-284💐
💐प्रेम कौतुक-284💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राही
राही
RAKESH RAKESH
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
Loading...