Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

तू कहता क्यों नहीं

रहता है दूर तुमसे, लेकिन
दिल के करीब हो गया है
तू जानता नहीं है
उसे भी इश्क हो गया है

देखता है वो भी तुमको
तेरे ख्वाबों में खो गया है
तू समझता ही नहीं
वो ज़माने से डर गया है

कह रही है आंखें उसकी
जिनमें तू खो गया है
तू जाने क्यों सुनता नहीं
ये तुझको क्या हो गया है

शर्मो हया का लिहाज़ है उसको
लेकिन अब वक्त आ गया है
तू कहता क्यों नहीं
तेरा दिल भी उस पर आ गया है

होगी उसको भी खुशी बहुत
अब उसका भी सब्र टूट गया है
जाकर उससे कहता क्यों नहीं
जो तेरे प्यार में अब टूट गया है

महसूस करोगे धड़कनों को जब
मालूम चलेगा तू क्या पा गया है
उससे मिलता क्यों नहीं
जो मन ही मन अब तेरा गया है

Language: Hindi
13 Likes · 2 Comments · 784 Views
You may also like:
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कब तुम?
Pradyumna
अपना घर
Shyam Sundar Subramanian
"एक राष्ट्र एक जन" पुस्तक के अनुसार
Ravi Prakash
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
साढ़े सोलह कदम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रामायण भाग-1
Taj Mohammad
सुविधा भोगी कायर
Shekhar Chandra Mitra
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
🇭🇺 झाँसी की क्षत्राणी /ब्राह्मण कुल की एवं भारतवर्ष की...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उजालों के घर
सूर्यकांत द्विवेदी
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
कार्तिक पूर्णिमा की रात
Ram Krishan Rastogi
"फल"
Dushyant Kumar
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
साँझ ढल रही है
अमित नैथानी 'मिट्ठू' (अनभिज्ञ)
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
Accept the mistake
Buddha Prakash
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
लोकमाता अहिल्याबाई होलकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
'अशांत' शेखर
साहिल की रेत
Kaur Surinder
Loading...