Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2017 · 1 min read

तु भी माँ मैं भी माँ

माँ तेरी याद आती है जब बेटी को गुड़िया कह कर पुकारती हूँ
तो तेरे मुहँ से अपने लिए मुनिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब सहलाती हूँ अपनी बेटी के गाल
तो अपने गालो पर तेरे होठो की चुमिया माँ ।

माँ. तेरी याद आती है जब अपनी बेटी के बाल सवारती हूँ
तो तेरे हाथ से बनी दो चोटियाँ माँ।

माँ तेरी याद आती है जब जागती हूँ अपनी बेटी के लिए
तो आँखो मे काटी होगी तुमे भी कितनी रतिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब बच्ची को खाना खिलाती हूँ
तो तेरे हाथ की गरम नरम रोटिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब बेटी के कुरते मे बटन लगाती हूँ
तो तेरे हाथ से मेरे फ्राक पर बनी बुटिया माँ।

माँ. तेरी याद आती है जब बेटी आँखो से एक पल को भी ओझल हो
तो तेरे मेरे बीच की कोसौ दुरिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब तेरी ममता की माला मे पुर्णता
तो अपनी ममता की माला मे कमिया माँ।

माँ तेरी याद आती है जब अपनी बेटी को गोद मे लेटाती हूँ
तो तेरी गोद मे समाई सारी दुनिया माँ।

??????????????

Language: Hindi
1 Comment · 495 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शाम सवेरे हे माँ, लेते हैं तेरा हम नाम
शाम सवेरे हे माँ, लेते हैं तेरा हम नाम
gurudeenverma198
3220.*पूर्णिका*
3220.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
Phool gufran
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
चलना था साथ
चलना था साथ
Dr fauzia Naseem shad
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं बूढ़ा नहीं
मैं बूढ़ा नहीं
Dr. Rajeev Jain
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
मां है अमर कहानी
मां है अमर कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्या वायदे क्या इरादे ,
क्या वायदे क्या इरादे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
Loading...