Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।

तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।

तुलसीदास महाकवि ऐसे
चमके गगन प्रभाकर जैसे।

रामचरित मानस गुणकारी
कथा राम की जिसमें सारी।

तुलसी जिसके रचनाकार
जोड़ूँ निज कर बारम्बार।

राम – नाम ऐसी पतवार कर दे भवसागर के पार।
a m prahari
—-

325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सुप्रभात प्रिय..👏👏
सुप्रभात प्रिय..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
*Author प्रणय प्रभात*
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
पूर्वार्थ
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
सुखदाई सबसे बड़ी, निद्रा है वरदान (कुंडलिया)*
सुखदाई सबसे बड़ी, निद्रा है वरदान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सिकन्दर वक्त होता है
सिकन्दर वक्त होता है
Satish Srijan
"जस्टिस"
Dr. Kishan tandon kranti
Love life
Love life
Buddha Prakash
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
मानवता
मानवता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
Anil Mishra Prahari
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
सच की पेशी
सच की पेशी
Suryakant Dwivedi
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
कवि दीपक बवेजा
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शराफ़त के दायरों की
शराफ़त के दायरों की
Dr fauzia Naseem shad
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
Loading...