Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

तुम

तुम

अकुलाते मेघों की गड़गड़ाहट
अरण्य में मयूरों का कलरव
आकाश से जीवनी बरसात
धरती की बुझती प्यास
खेतों में बिछी गहरी हरियाली
अपरिचिता के केशों में अटकी बूँदें

जब संयोग ऐसा
होता है आस पास
हमेशा, याद आती हो तुम
भड़कती है मिलान की प्यास.

सुगन्धित आम के बौरों से लदे पेड़
गाँव को लौटते चरवाहे और गोरू
अपरचित ग्राम्या के चूल्हे से उठा धुआँ
आकाश का रक्त रंजित पश्चिमी कोना
सुरमई ढलती शाम, बसेरों में लौटते पखेरू

जब इन सबका
साक्षात्कार होता है
हमेशा, याद आती हो तुम
ऐसा हर बार होता है.

निशा के गहन आँचल में दुबका गांव
झुरमुटों से उनींदे झींगुरों की आवाज
‘धवल’ चाँदनी से भरा आँगन
सूनी आँखों में पल रहे कोमल स्वप्न
प्रतीक्षा में खोले किवाड़ बैठा मन

जब कभी रात का
सूनापन डसता है मुझे
हमेशा, याद आती हो तुम
ऐसा लगता है मुझे .

प्रदीप तिवारी ‘धवल’

Language: Hindi
807 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#बात_बेबात-
#बात_बेबात-
*Author प्रणय प्रभात*
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
तुमसे उम्मीद थी कि
तुमसे उम्मीद थी कि
gurudeenverma198
वर्दी
वर्दी
Satish Srijan
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
वनमाली
वनमाली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रात के अंधेरे के निकलते ही मशहूर हो जाऊंगा मैं,
रात के अंधेरे के निकलते ही मशहूर हो जाऊंगा मैं,
कवि दीपक बवेजा
मन
मन
Sûrëkhâ Rãthí
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
2268.
2268.
Dr.Khedu Bharti
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
Santosh Barmaiya #jay
जलियांवाला बाग की घटना, दहला देने वाली थी
जलियांवाला बाग की घटना, दहला देने वाली थी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
Amit Pandey
"साजिश"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
इंद्रदेव की बेरुखी
इंद्रदेव की बेरुखी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आज का चिंतन
आज का चिंतन
निशांत 'शीलराज'
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
*अक्षय तृतीया*
*अक्षय तृतीया*
Shashi kala vyas
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
Loading...