Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2023 · 1 min read

मौन अधर होंगे

तुम से मिलना जब हमारा होगा
देखना बड़ा दायरा होगा
बीते सालों के एक एक दिन का
आंखों के सामने आना होगा
कैसे कटे ओर कैसे जीएं
तुम्हारे बिन
आंखों से ही कहना होगा
मौन अधर होंगे
उमर का भी एक तकाजा होगा
थोड़ा इस जग का भी तमाशा होगा
पर तुम मौन अधरों से ही
बातें सारी करना
आंखों में जब आए आंशु तो
कचरे का तुम बहाना करना
उसी नदी के पनघट पर
फिर एक बार मिलेंगे
फिर तुम अपना रस्ता चुनना
फिर चाहो तो दिल की सुनना
मैं तुम को वहीं मिलूंगा
मैं तुम को वहीं मिलूंगा
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

Language: Hindi
1 Like · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम कौतुक-310💐
💐प्रेम कौतुक-310💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
काश
काश
Sidhant Sharma
★भारतीय किसान★
★भारतीय किसान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ
माँ
Kavita Chouhan
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
2818. *पूर्णिका*
2818. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ जीवन मूल्य।
■ जीवन मूल्य।
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
शुगर रहित मिष्ठान्न (हास्य कुंडलिया)
शुगर रहित मिष्ठान्न (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
Manoj Mahato
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...