Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

तुम मेरी कविता

तुम मेरी कविता
——————–
जब मन का तालाब
दर्द की बारिश में सराबोर हो कर
रिसता रहता है आँसू बन कर,
हर बूँद में ढल कर
नमकीन अहसास लिए तुम आती हो।

और जब कँकर फेंक फेंक कर
बार बार पानी में शून्य बनाता हूँ
और उन शून्य के घेरों में
खोजता रहता हूँ अपनी छवि।
उस काँपते तस्वीर में उभर कर फिर
नया विश्वास लिए तुम आती हो।

या जब नदी के बाँध
लगातार समय के थपेड़ों से
लड़ लड़ कर, थक कर
जवाब देने लगते हैं;
उस उफान में उबल कर
या बवन्डर के मंथन में मथ कर
मिट्टी का आभास लिए तुम आती हो।

आती हो तुम उस चाँदनी रात को
जब चाँद का प्यार
बिखर रहा था अंतरिक्ष के पार,
और जब छोटे घने बादल
टूट पड़ते हैं उस चाँद पर
उस मासूम खरगोश पर जैसे
झपट पड़े थे गिद्धों के झुंड।

या जब कोई ख्वाहिश की मौत पर
चुल्लु भर पानी में
खुदकुशी को आतुर जिन्दगी
साहस के चप्पू तेजी से चलाती है
और एक किनारा बन कर
मसीहा की तरह तुम आती हो।

और जब विरह के समंदर के किनारे
यादों की लहरों से कबड्डी खेल कर
गीली रेत में सपनों का घर बना
इंतजार करता रहता है मन,
नये ऋँगार लिए फिर तुम आती हो।

और तुम आती हो जब,
सजता संवरता हूँ मैं खूब:
भावों में नहा कर,
अलंकारों से ऋंगार कर,
रेशम के छँद पहन,
समर्पन से तिलक करता हूँ,
तुम्हारा, तुम मेरी कविता।

Language: Hindi
1 Like · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
Gratitude Fills My Heart Each Day!
Gratitude Fills My Heart Each Day!
R. H. SRIDEVI
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
गाय
गाय
Vedha Singh
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
काट  रहे  सब  पेड़   नहीं  यह, सोच  रहे  परिणाम भयावह।
काट रहे सब पेड़ नहीं यह, सोच रहे परिणाम भयावह।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*सरल सुकोमल अन्तर्मन ही, संतों की पहचान है (गीत)*
*सरल सुकोमल अन्तर्मन ही, संतों की पहचान है (गीत)*
Ravi Prakash
*** तोड़ दिया घरोंदा तूने ,तुझे क्या मिला ***
*** तोड़ दिया घरोंदा तूने ,तुझे क्या मिला ***
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
"बोली-दिल से होली"
Dr. Kishan tandon kranti
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
एकांत
एकांत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
भारत के जोगी मोदी ने --
भारत के जोगी मोदी ने --
Seema Garg
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ruby kumari
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
Ram Krishan Rastogi
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
वापस
वापस
Harish Srivastava
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
कवि रमेशराज
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...