Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 23, 2017 · 1 min read

तुम मेरी कविता

तुम मेरी कविता
——————–
जब मन का तालाब
दर्द की बारिश में सराबोर हो कर
रिसता रहता है आँसू बन कर,
हर बूँद में ढल कर
नमकीन अहसास लिए तुम आती हो।

और जब कँकर फेंक फेंक कर
बार बार पानी में शून्य बनाता हूँ
और उन शून्य के घेरों में
खोजता रहता हूँ अपनी छवि।
उस काँपते तस्वीर में उभर कर फिर
नया विश्वास लिए तुम आती हो।

या जब नदी के बाँध
लगातार समय के थपेड़ों से
लड़ लड़ कर, थक कर
जवाब देने लगते हैं;
उस उफान में उबल कर
या बवन्डर के मंथन में मथ कर
मिट्टी का आभास लिए तुम आती हो।

आती हो तुम उस चाँदनी रात को
जब चाँद का प्यार
बिखर रहा था अंतरिक्ष के पार,
और जब छोटे घने बादल
टूट पड़ते हैं उस चाँद पर
उस मासूम खरगोश पर जैसे
झपट पड़े थे गिद्धों के झुंड।

या जब कोई ख्वाहिश की मौत पर
चुल्लु भर पानी में
खुदकुशी को आतुर जिन्दगी
साहस के चप्पू तेजी से चलाती है
और एक किनारा बन कर
मसीहा की तरह तुम आती हो।

और जब विरह के समंदर के किनारे
यादों की लहरों से कबड्डी खेल कर
गीली रेत में सपनों का घर बना
इंतजार करता रहता है मन,
नये ऋँगार लिए फिर तुम आती हो।

और तुम आती हो जब,
सजता संवरता हूँ मैं खूब:
भावों में नहा कर,
अलंकारों से ऋंगार कर,
रेशम के छँद पहन,
समर्पन से तिलक करता हूँ,
तुम्हारा, तुम मेरी कविता।

1 Like · 131 Views
You may also like:
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
विधि के दो वरदान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
बुध्द गीत
Buddha Prakash
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
कारस्तानी
Alok Saxena
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
अल्फाज़ ए ताज भाग-2
Taj Mohammad
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
पिता की सीख
Anamika Singh
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
"अशांत" शेखर
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
केंचुआ
Buddha Prakash
Loading...