Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

तुम बिन जीना सीख लिया

जब से छोड़ा तुमने मेरा हाथ,
तुम बिन जीना सीख लिया।
जब से छूटा तुम्हारा साथ,
तुम बिन चलना सीख लिया।
अब मैं ने लड़खड़ा कर गिर ते,
पैरों पर सम्हल ना सीख लिया।
हाँ याद तुम्हारी हर पल आती,
सांसों की निनाद सी बजती।
मन वीणा के तारों पर गुंजित,
विरह राग पर गीत गाना सीख लिया।

Language: Hindi
190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
वो जो ख़ामोश
वो जो ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
नये गीत गायें
नये गीत गायें
Arti Bhadauria
हम साथ साथ चलेंगे
हम साथ साथ चलेंगे
Kavita Chouhan
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
पूर्वार्थ
3000.*पूर्णिका*
3000.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तपते सूरज से यारी है,
तपते सूरज से यारी है,
Satish Srijan
ज्ञानों का महा संगम
ज्ञानों का महा संगम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
"तुम्हें याद करना"
Dr. Kishan tandon kranti
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
दिल का मौसम सादा है
दिल का मौसम सादा है
Shweta Soni
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
ये  भी  क्या  कमाल  हो  गया
ये भी क्या कमाल हो गया
shabina. Naaz
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
DrLakshman Jha Parimal
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का शेर शुभ-रात्रि के साथ।
■ आज का शेर शुभ-रात्रि के साथ।
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
Loading...