Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2022 · 1 min read

तुम पतझड़ सावन पिया,

तुम पतझड़ सावन पिया, तुम ही हो मधुमास।
बूँद स्वाति नक्षत्र की,तुम्हीं हृदय की प्यास।।

तुम हो मन की केतकी,चंपा तुम्हीं पलास।
रिक्त हृदय के कुंज में,प्रथम प्रेम आभास।।

प्रेम अगन मन की चुभन,तुम्हीं हास-परिहास।
तुम से ही जीवन सजा,अंतस में उल्लास।।

सूर्य किरण की तुम प्रखर,उज्ज्वल धवल प्रकाश।
चाँद सितारों से सजा,हो मेरा आकाश।।

तुम से ही उम्मीद है,सिर्फ तुम्हीं से आस।
खुद से भी ज्यादा मुझे,है तुम पर विस्वास।।

तुम्हीं काव्य की कल्पना,तुम अनुभव अहसास।
अलंकार हो काव्य की,तुम्हीं वर्ण विन्यास।।

दिल धड़कन उर आत्मा,प्राण प्रणय तन श्वास ।
मन प्रांगण का देव तुम,रोम रोम में वास।

तुम जीवन की पूर्ति हो,प्रेम मूर्ति अरदास।
लब्ज़ो में कैसे कहूँ, तुम हो कितने खास।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3 Likes · 1 Comment · 788 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम्हारे
तुम्हारे
हिमांशु Kulshrestha
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
👌
👌
*प्रणय प्रभात*
आहत हूॅ
आहत हूॅ
Dinesh Kumar Gangwar
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
पूर्वार्थ
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाढ़
बाढ़
Dr.Pratibha Prakash
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*छोटे होने में मजा, छोटे घास समान (कुंडलिया)*
*छोटे होने में मजा, छोटे घास समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काव्य में सहृदयता
काव्य में सहृदयता
कवि रमेशराज
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"अनुत्तरित"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
Loading...