Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

तुम पंख बन कर लग जाओ

तुम पंख बन कर लग जाओ

कविता का संसार गढ़ना है,
बन प्रेरणा चले आओ,
हाँ, मुझे उड़ना है,
तुम पँख बनकर लग जाओ ।
देखना है मुझे,
उस क्षितिज के पार क्या है,
जानना है मुझे,
सपनों का सँसार क्या है ।
कल्पना के संसार में,
तैरना है मुझे,
सावन की फुहार में,
भीगना है मुझे ।
महसूस करना है तपन को,
जेठ की दुपहरी में, रेत में,
आलिंगन करना है शीत का,
पूष की ठिठुरी बर्फ में ।
हर एक ऋतु देखूँगा मैं,
तुम ऋतुएँ बदल-बदल लाओ,
हाँ, मुझे उड़ना है,
तुम पँख बनकर लग जाओ ।

(c)@ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
9 Likes · 7 Comments · 925 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
"स्वभाव"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन में सुख-चैन के,
जीवन में सुख-चैन के,
sushil sarna
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
"कोशिशो के भी सपने होते हैं"
Ekta chitrangini
चाय और गपशप
चाय और गपशप
Seema gupta,Alwar
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्त न बन सकी
दोस्त न बन सकी
Satish Srijan
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
अफवाह आजकल फॉरवर्ड होती है(हास्य व्यंग्य)*
अफवाह आजकल फॉरवर्ड होती है(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
Shyam Pandey
राम को कैसे जाना जा सकता है।
राम को कैसे जाना जा सकता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
Neeraj Agarwal
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
ज़रूर है तैयारी ज़रूरी, मगर हौसले का होना भी ज़रूरी
ज़रूर है तैयारी ज़रूरी, मगर हौसले का होना भी ज़रूरी
पूर्वार्थ
3002.*पूर्णिका*
3002.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हाइकु (#हिन्दी)
हाइकु (#हिन्दी)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
एक किस्सा तो आम अब भी है,
एक किस्सा तो आम अब भी है,
*प्रणय प्रभात*
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
हर किसी में आम हो गयी है।
हर किसी में आम हो गयी है।
Taj Mohammad
Loading...