Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

*तुम न आये*

चंचल सी चाँदनी छिटकी थी
निशि कुछ मद्धम धूंधली थी
थे नयन इक आस लगाये
रैन बीती तब तुम न आये।

थी पथ पर अनवरत सी खड़ी
अटल बन कभी पर्वत सी अड़ी
बैठी नयन में कजरा सजाये
रैन बीती तब तुम न आये।

आकुल सी हो राह निहारती
कभी मधुर स्मृतियाँ पुकारती
तीव्र समीर आँचल उड़ाये
रैन बीती तब तुम न आये।

हिय भी आज निस्पंद करता
दिल ये अनंत पीड़ा सह लेता
आभास न कुछ मद्धम हुये
रैन बीती तब तुम न आये।

रुँधा कंठ हो नैन भिगोये
शुष्क बन अधर कंपकपायें
धवल नभ स्याह पयोद छाये
रैन बीती तब तुम न आये।

तीव्र उसासों की वो ध्वनी
अनिमिष निहारती धरा सूनी
घनघोर निशी संग तमस लाये
रैन बीती तब तुम न आये।

था वो स्वप्न सुंदर सुनहरा
स्नेहिल स्मृति सागर गहरा
शुष्क रज पद्चाप बिखराये
रैन बीती तब तुम न आये।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
Vicky Purohit
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
पुनर्जन्म का सत्याधार
पुनर्जन्म का सत्याधार
Shyam Sundar Subramanian
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
ओसमणी साहू 'ओश'
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मारी - मारी फिर रही ,अब तक थी बेकार (कुंडलिया)
मारी - मारी फिर रही ,अब तक थी बेकार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
Shweta Soni
एक तरफ़ा मोहब्बत
एक तरफ़ा मोहब्बत
Madhuyanka Raj
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Swami Ganganiya
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए
VINOD CHAUHAN
#गीत /
#गीत /
*Author प्रणय प्रभात*
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...