Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

तुम नि:शब्द साग़र से हो ,

तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
मैं निनाद करती हुईं सरिता|
तुम सुनामी की लहरों के संग,
मैं कल-कल, छल-छल निनदो के संग||
तुम में कितनी ही तरंगमलाये आ जाये,
तुम नि:शब्द सागर से हो…………..||

4 Likes · 2 Comments · 497 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Started day with the voice of nature
Started day with the voice of nature
Ankita Patel
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
Er. Sanjay Shrivastava
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
3262.*पूर्णिका*
3262.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
सूखा पत्ता
सूखा पत्ता
Dr Nisha nandini Bhartiya
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
कवि दीपक बवेजा
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
gurudeenverma198
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
"मेरी नज्मों में"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...