Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

प्रणय 7

तुम क्यों सागर की लहरों जैसे नदियों की तरह मेरा इंतजार करते रहते हो
मुझे तो बस राम जैसे आदर्श और श्याम जैसी चाहत ही चाहिए थी
हमारा मिलन होता या ना होता पर हमारे प्रेम का डंका पूरे विश्व में बजता।।

559 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
Dushyant Kumar
अब ये ना पूछना कि,
अब ये ना पूछना कि,
शेखर सिंह
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
शोषण
शोषण
साहिल
मां
मां
Sûrëkhâ
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
Ravi Prakash
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
Loading...