Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

तुम कहो या न कहो

तुम कहो या न कहो,है उम्रभर की यह प्रतीक्षा
और तुमसे जो मिली है ,वो व्यथा सहता रहूंगा।

इंद्रधनुषी रंग के, तुम तो हो अवयव कदाचित….
व्योम के मस्तक की शोभा तुम बढ़ाती ही रहोगी…
और मैं तारा हूं टूटा कल्पनाओं के गगन का
गर कभी मैं टूट जाऊं अनवरत गिरता रहूंगा।
तुम कहो या न कहो,है उम्रभर की यह प्रतीक्षा
और तुमसे जो मिली है ,वो व्यथा सहता रहूंगा।

हों हजारों ही खुशी कायल तुम्हारे उस छुवन को
जिसको मैंने सोच कर ही कर दिया खुद को समर्पित
जानता हूं तुम हंसोगी मेरे निरर्थक कोशिशों पर
जिसको मैं अवधार कर नव गीत यूं गढ़ता रहूंगा।
तुम कहो या न कहो,है उम्रभर की यह प्रतीक्षा
और तुमसे जो मिली है ,वो व्यथा सहता रहूंगा।

चाहता हूं कि कोई छाया भी न छू पाए तुमको
और अवसर ही नहीं हो वेदना को या तपन को
तुझ पे गम आए अगर तो मैं सकल विध्वंस कर दूं
इन विवादित से विचारों में सदा ढलता रहूंगा।
तुम कहो या न कहो,है उम्रभर की यह प्रतीक्षा
और तुमसे जो मिली है ,वो व्यथा सहता रहूंगा।

दीपक झा रुद्रा

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संतुलन
संतुलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
एक अध्याय नया
एक अध्याय नया
Priya princess panwar
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
🙅खरी-खरी🙅
🙅खरी-खरी🙅
*प्रणय प्रभात*
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दिलों का हाल तु खूब समझता है
दिलों का हाल तु खूब समझता है
नूरफातिमा खातून नूरी
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नारी
नारी
Mamta Rani
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
बीज अंकुरित अवश्य होगा
बीज अंकुरित अवश्य होगा
VINOD CHAUHAN
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2584.पूर्णिका
2584.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
हरवंश हृदय
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
होली आने वाली है
होली आने वाली है
नेताम आर सी
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
घड़ी का इंतजार है
घड़ी का इंतजार है
Surinder blackpen
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
Loading...