Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2023 · 1 min read

तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो

तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो।

अरे तुम्हें तो ये बोलते हुए भी शर्म आनी चाहिए।
राधा और कृष्ण का प्यार द्वापर युग का था, और ये कलयुग अगर तुम यहां किसी से कृष्ण और राधा की तरह प्यार करोगे तो उसे खोना नहीं पड़ेगा।
लेकिन पहले तुम कृष्ण की तरह प्यार करो तो, तुम्हारा प्यार तो केवल शारीरिक आकर्षण हैं।
तुम्हें तो केवल हर घाट का पानी पीना है, और कहते हो की मेरा प्यार सच्चा था।
अगर तुहारा प्यार सच्चा होते किसी को खोना नही पड़ेगा, आज-कल तो लोग प्यार के नाम पे एक दूसरे का केवल आपने मतलब के लिए इस्तेमाल करते है और इस्तेमाल कर के छोड़ देते है।
अरे तुम बिना किसी मतलब का किसी से प्यार करो तो, फिर देखना तुम्हें उस प्यार में कितना अच्छा लगेगा, बस बिना मतलब किसी चाहत के किसी इच्छा के एक दूसरे का साथ दो एक दूसरे का ध्यान दो, फिर देखना तुम्हें इस प्यार में कितना सुकून मिलेगा।
और अगर सच्चा प्यार किए हो तो थोड़ा देर ही सही लेकिन मिलोगे जरूर।

Language: English
2 Likes · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
' समय का महत्व '
' समय का महत्व '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन की अभिव्यक्ति
जीवन की अभिव्यक्ति
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
"दो धाराएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
वो एक विभा..
वो एक विभा..
Parvat Singh Rajput
2262.
2262.
Dr.Khedu Bharti
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
-बहुत देर कर दी -
-बहुत देर कर दी -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
All good
All good
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
नेताम आर सी
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
जीता जग सारा मैंने
जीता जग सारा मैंने
Suryakant Dwivedi
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
हे री सखी मत डाल अब इतना रंग गुलाल
हे री सखी मत डाल अब इतना रंग गुलाल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
अर्ज किया है
अर्ज किया है
पूर्वार्थ
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
खुद पर यकीन,
खुद पर यकीन,
manjula chauhan
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मुझे बेपनाह मुहब्बत है
मुझे बेपनाह मुहब्बत है
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-63💐
💐अज्ञात के प्रति-63💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...