Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ

तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
बरसों याराना रहा अंधेरों से अपना

सुशील सरना / 19-1-24

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पवनसुत
पवनसुत
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
सृष्टि
सृष्टि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
23/73.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/73.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
#व्यंग्य_काव्य
#व्यंग्य_काव्य
*Author प्रणय प्रभात*
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
कम्प्यूटर ज्ञान :- नयी तकनीक- पावर बी आई
कम्प्यूटर ज्ञान :- नयी तकनीक- पावर बी आई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
गायें गौरव गान
गायें गौरव गान
surenderpal vaidya
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
Manisha Manjari
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
Loading...