Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2017 · 1 min read

तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक …..

तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक
मुझे हमारी इन्सानियत मुबारक
मैं हु तुम्हारी बेरुखी से वाक़िब
लोगो को तुम्हारी मासूमियत मुबारक।
(अवनीश कुमार)

(ऐसी बेबसी कभी ना देखी अपनी
लफ्ज होठो पर है और बोले नहीं कभी)

Language: Hindi
230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-315💐
💐प्रेम कौतुक-315💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
नफ़रत की आग
नफ़रत की आग
Shekhar Chandra Mitra
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
Shiva Awasthi
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
पूर्वार्थ
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Anil chobisa
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
मैं तो महज बुनियाद हूँ
मैं तो महज बुनियाद हूँ
VINOD CHAUHAN
"दुबराज"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
तुमने देखा ही नहीं
तुमने देखा ही नहीं
Surinder blackpen
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*Author प्रणय प्रभात*
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
Jyoti Khari
जब जब ……
जब जब ……
Rekha Drolia
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
दो मुक्तक
दो मुक्तक
Ravi Prakash
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
Loading...