Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

तुम्हें पाना मंज़िल अगर है

सूना डगर है , लम्बा सफर है
चल राही तुझे किसका डर है
छोड़ दुनिया की मोह -माया
तुम्हें पाना मंज़िल अगर है

चलते रह चलते रह थकना नहीं तू
कुछ ही दूर में सपनों का शहर है
न समझना अकेला खुद को जहां में
सदा माता -पिता के दुआ साथ है

ज़िन्दगी है रणभूमि संघर्ष करना है
जीत होगा मेहनत तुम्हें करना है
तू आज़ाद पंछी नहीं किसी का बंधन
मन में अचल साहस अनवरत बढ़ना है

आयेगी तूफाँ ,न घबराना कभी तू
साहस के आगे क्या कोई टिक सका है
कुछ करके दिखाना है आगे बढ़ना है
मौका मिला है अब पीछे नहीं मुड़ना है

एक नयी इतिहास फिर से लिखना है
ये जहां में अपना नाम अमर करना है
तू सूरज भी है और चाँद भी है
जहां को रौशन तुम्हें करना है

दुष्यंत कुमार पटेल “चित्रांश”

Language: Hindi
Tag: गीत
343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-270💐
💐प्रेम कौतुक-270💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
गरम समोसा खा रहा , पूरा हिंदुस्तान(कुंडलिया)
गरम समोसा खा रहा , पूरा हिंदुस्तान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
हर पति परमेश्वर नही होता
हर पति परमेश्वर नही होता
Kavita Chouhan
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पदोन्नति
पदोन्नति
Dr. Kishan tandon kranti
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
बेटियां तो बस बेटियों सी होती है।
बेटियां तो बस बेटियों सी होती है।
Taj Mohammad
दिल के अहसास बया होते है अगर
दिल के अहसास बया होते है अगर
Swami Ganganiya
सामन्जस्य
सामन्जस्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
Santosh Khanna (world record holder)
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी  किसी के साथ प्रेम ,  किस
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी किसी के साथ प्रेम , किस
Seema Verma
तुम कहो कोई प्रेम कविता
तुम कहो कोई प्रेम कविता
Surinder blackpen
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
Smriti Singh
एक है ईश्वर
एक है ईश्वर
Dr fauzia Naseem shad
देकर हुनर कलम का,
देकर हुनर कलम का,
Satish Srijan
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
Ashwini sharma
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
क्या डरना?
क्या डरना?
Shekhar Chandra Mitra
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...