Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2023 · 1 min read

तुम्हें नमन है अमर शहीदों

तुम्हीं धरा के ज्योतिपुंज हो,
हम सबका अभिमान हो।
तुम्हे नमन हे अमर शहीदों,
तुम भारत की शान हो।।

सींच धरा को लहू से अपने,
पौध नई लहराने वाले,
जंजीरों से मातृभूमि को,
मुक्त करा मुस्काने वाले,
मणियों की हो अद्द्भुत माला,
हीरों की तुम खान हो।
तुम्हे नमन हे अमर शहीदों,
तुम भारत की शान हो।।

कंटक वाले पंथ चुने तुम,
जीवन का सुख त्याग चले,
हमें हंसाने के खातिर बस,
आँसू ले अनुराग चले,
जनगणमन की गीत तुम्ही हो,
जनगणमन का गान हो।
तुम्हे नमन हे अमर शहीदों,
तुम भारत की शान हो।।

माता की वह कोंख धन्य है,
जिसमें जन्म लिया तुमने,
उसी भूमि की पावन मिट्टी,
मस्तक लगा लिया हमने,
वीरों में हो महावीर तुम,
वीरों की पहचान हो।
तुम्हे नमन हे अमर शहीदों,
तुम भारत की शान हो।।

कर्ज तुम्हारा हम पर जो है,
चुका नहीं हम पायेंगे,
सच कहते हैं सच्चे मन से,
तुमको शीश झुकायेंगे,
देव दूत कहलाने वाले,
हम सबके भगवान हो।
तुम्हे नमन हे अमर शहीदों,
तुम भारत की शान हो।।

रचना-लालबहादुर चौरसिया “लाल”
आजमगढ़ ,यूपी- ९४५२०८८८९०

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आख़िर उन्हीं २० रुपयें की दवाई ….
आख़िर उन्हीं २० रुपयें की दवाई ….
Piyush Goel
” आलोचनाओं से बचने का मंत्र “
” आलोचनाओं से बचने का मंत्र “
DrLakshman Jha Parimal
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
Monika Arora
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
सीता के बूंदे
सीता के बूंदे
Shashi Mahajan
"सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
धृतराष्ट्र की आत्मा
धृतराष्ट्र की आत्मा
ओनिका सेतिया 'अनु '
*प्यार का रिश्ता*
*प्यार का रिश्ता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरे एहसास
मेरे एहसास
Dr fauzia Naseem shad
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
हम उस पीढ़ी के लोग है
हम उस पीढ़ी के लोग है
Indu Singh
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
युगों    पुरानी    कथा   है, सम्मुख  करें व्यान।
युगों पुरानी कथा है, सम्मुख करें व्यान।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
Loading...