Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।

मुक्तक

तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
ऐसा लगता है जहां से बेगाने लगते हैं।
ख़्वाब में और कोई होता है,
नाम गुदवा के तुम्हारा दिखाने लगते हैं।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
बचपन
बचपन
अनिल "आदर्श"
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
शेखर सिंह
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
gurudeenverma198
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
इस शहर में कितने लोग मिले कुछ पता नही
इस शहर में कितने लोग मिले कुछ पता नही
पूर्वार्थ
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
नरसिंह अवतार विष्णु जी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
SPK Sachin Lodhi
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
शीर्षक -  आप और हम जीवन के सच
शीर्षक - आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...