Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2016 · 1 min read

तुम्हारी याद के साये

अँधेरे आप घिर जाते
घटा घनघोर जब छाये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये

गुजर कितने गए मौसम
हुआ पतझार बस अपना
हमारे एक होने का
अधूरा ही रहा सपना
हमारी ज़िन्दगी में तो
उजाले फिर नहीं आये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये

भरी तन्हाइयों में भी
न मन का शोर जीने दे
नहीं मिलती दवा गम की
जहर कोई न पीने दे
हमारी आँख से सावन
रुके से रुक नहीं पाये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Comments · 712 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
Manisha Manjari
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
Buddha Prakash
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
छटपटाता रहता है आम इंसान
छटपटाता रहता है आम इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तितली थी मैं
तितली थी मैं
Saraswati Bajpai
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
'अशांत' शेखर
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*Author प्रणय प्रभात*
हमसफर
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Aadarsh Dubey
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
मौन शब्द
मौन शब्द
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
VINOD CHAUHAN
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
रंगीन हुए जा रहे हैं
रंगीन हुए जा रहे हैं
हिमांशु Kulshrestha
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
"सहारा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...