Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2016 · 1 min read

तुम्हारी याद के साये

अँधेरे आप घिर जाते
घटा घनघोर जब छाये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये

गुजर कितने गए मौसम
हुआ पतझार बस अपना
हमारे एक होने का
अधूरा ही रहा सपना
हमारी ज़िन्दगी में तो
उजाले फिर नहीं आये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये

भरी तन्हाइयों में भी
न मन का शोर जीने दे
नहीं मिलती दवा गम की
जहर कोई न पीने दे
हमारी आँख से सावन
रुके से रुक नहीं पाये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Comments · 605 Views
You may also like:
जीवन अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
देखिए भी किस कदर हालात मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
భగ భగ మండే భగత్ సింగ్ రా!
विजय कुमार 'विजय'
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
कम्युनिस्ट
Shekhar Chandra Mitra
दीपक
MSW Sunil SainiCENA
✍️'महा'राजनीति✍️
'अशांत' शेखर
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शून्य की महिमा
मनोज कर्ण
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
■ लघुकथा / क्लोनिंग
*प्रणय प्रभात*
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Sahityapedia
✍️ओ कान्हा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
एउटा मधेशी ठिटो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
खुश रहना
dks.lhp
आजकल के अपने
Anamika Singh
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
वाह रे पशु प्रेम ! ( हास्य व्यंग कविता)
ओनिका सेतिया 'अनु '
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपना अपना आवेश....
Ranjit Tiwari
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
हम समझते थे
Dr fauzia Naseem shad
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
DrLakshman Jha Parimal
इश्क की तपिश
Seema 'Tu hai na'
Loading...