Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Aug 20, 2016 · 1 min read

तुम्हारी याद के साये

अँधेरे आप घिर जाते
घटा घनघोर जब छाये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये

गुजर कितने गए मौसम
हुआ पतझार बस अपना
हमारे एक होने का
अधूरा ही रहा सपना
हमारी ज़िन्दगी में तो
उजाले फिर नहीं आये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये

भरी तन्हाइयों में भी
न मन का शोर जीने दे
नहीं मिलती दवा गम की
जहर कोई न पीने दे
हमारी आँख से सावन
रुके से रुक नहीं पाये
हुए अब और भी गहरे
तुम्हारी याद के साये
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

5 Comments · 449 Views
You may also like:
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
बर्षा रानी जल्दी आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
सावन
Arjun Chauhan
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
Loading...