Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

तुम्हारी जय जय चौकीदार

देश हमारा बदल रहा हैं, बदल गया इंसान l
चौक पे चर्चा चल रही हैं, कि भटका हिन्दुस्तान ll
तुम्हारी जय जय चौकीदार – 2
रेल बेच दी भेल बेच दी, बेचों तेल अपार l
मांग हिसाब रहें थे जितने, जेल में भर दये जाय ll
तुम्हारी जय जय चौकीदार -2
चौकीदार बने हैं जबसे, तब से बढ़ गई रार l
काना फूंसी होय रही घर में, का कीन्हों भरतार ll
तुम्हारी जय जय चौकीदार -2
पांच किलो राशन पे जिंदा, बड़े बड़े सरदार l
खाली सिलेण्डर घर में रखे, पैसा – नाहिं हैं सरकार ll
तुम्हारी जय जय चौकीदार -2
हर घर में बज रही बधाई, अहिए फिर सरकार l
पप्पू पास न होइंहि फिर से, रौंतो फैलो जाये ll
तुम्हारी जय जय चौकीदार -2
📝
लोधी श्याम सिंह तेजपुरिया
सर्वाधिकार सुरक्षित
15/10/2023

2 Likes · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*घड़ा (बाल कविता)*
*घड़ा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
💐प्रेम कौतुक-303💐
💐प्रेम कौतुक-303💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3284.*पूर्णिका*
3284.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
😢हे माँ माताजी😢
😢हे माँ माताजी😢
*Author प्रणय प्रभात*
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
♥️
♥️
Vandna thakur
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
प्यास
प्यास
sushil sarna
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
माँ मेरी जादूगर थी,
माँ मेरी जादूगर थी,
Shweta Soni
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक कतरा प्यार
एक कतरा प्यार
Srishty Bansal
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
गंदा धंधा
गंदा धंधा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...