Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2023 · 1 min read

तुम्हारा मेरा रिश्ता….

तुम्हारा मेरा रिश्ता….
ढलती हुई रात और सुबह के बीच सा कुछ।
जैसे खुशी से निकले आँसू सा,
वो जैसे पतझड़ के बाद पेड़ो से निकलतें हैं कुछ कोमल पत्ते,
वहीं जिनका रंग हरे-लाल के बीच में कुछ होता हैं,
जैसे बारिश से पहलें की मदहोशी,
और उसके बाद की सोंधी खुशबू सा,
नंगे पैर ठंडी रेत पे टहलने पे जो गुदगुदी सी होती हैं,
वैसा ही कुछ….
तुम्हारा मेरा रिश्ता,चढ़ते नशें के अहसास सा,
जैसे दो बच्चे आपस में ठिठोली करते हैं न,
बिलकुल वैसा ही,
तुम्हारा मेरा रिश्ता,जिसमें जरूरत नहीं शब्दों की,
जिसमें भावनाएं बस एक दुसरे को नज़रों नज़रों में ही बयां हो जाएं….
फिर भी मैं तुम्हारे लिए एक रोज़ लिखूँगा जरूर,
जिसें पढ़कर तुम मुस्कुराओगी , खिलखिलाओगी
और शायद आँखें भी भिगाओगी….

140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
खूबसूरत चेहरे
खूबसूरत चेहरे
Prem Farrukhabadi
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
*Author प्रणय प्रभात*
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
टूटी जिसकी देह तो, खर्चा लाखों-लाख ( कुंडलिया )
टूटी जिसकी देह तो, खर्चा लाखों-लाख ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
भागअ मत, दुनिया बदलअ
भागअ मत, दुनिया बदलअ
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक- 292💐
💐प्रेम कौतुक- 292💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
Taj Mohammad
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
अब भी कहता हूँ
अब भी कहता हूँ
Dr. Kishan tandon kranti
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
Anil "Aadarsh"
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
पर्वतों का रूप धार लूंगा मैं
पर्वतों का रूप धार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...