Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

तुम्हारा एक दिन..………..एक सोच

तुम्हरा एक दिन जिंदगी का आज होता हैं।
हम तुम संग साथ तो चले कल न होता हैं।

जिंदगी के सफर में तुम्हरा एक दिन रहता हैं।
साल महीने और पल लम्हे तेरी यादों में रहते हैं।

हम चाहत के सफर में तुम्हरा एक दिन सोचते हैं।
बस तेरी हंसी और गालों की मुस्कान देखते हैं।

हम इंसान बहुत मतलबी और खुदगर्ज होते हैं।
तुम्हरा एक दिन बस हमारे मन भावों में रिश्ते हैं।

एतबार एहसास और हकीकत तुम्हरा एक दिन है।
हम तो बरसों से चाहत और मोहब्बत निभाते हैं।

सच तुम्हारा एक दिन हमारी जिंदगी में बसा है।
साथ फेरे और सात वचन को हम निभा रहे हैं।

हां हमसफ़र तुम्हारा एक दिन ही रंगमंच बस है।
न तेरा न मेरा साथ बस एक सोच उम्मीद रहती हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
Shweta Soni
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
"मेरी नज्मों में"
Dr. Kishan tandon kranti
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
Kirti Aphale
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
क्या है नारी?
क्या है नारी?
Manu Vashistha
🙅शायद🙅
🙅शायद🙅
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
2817. *पूर्णिका*
2817. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
इतना हल्का लगा फायदा..,
इतना हल्का लगा फायदा..,
कवि दीपक बवेजा
मित्र भाग्य बन जाता है,
मित्र भाग्य बन जाता है,
Buddha Prakash
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
Loading...