Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-311💐

तुमसे मैं कोई उम्मीद नहीं करता ऐसी कोई,
मेरे एतिबार का इम्तिहान ऐसे पयाम से लोगे,
मुझे जुड़ा ही पाओगे कभी आजमाकर देखो,
इस समुंदर में डुबकी लगा के कैसे निकलोगे।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

कॉलगर्ल, मूर्ख तुम्हारी कौन हैं।तमीज़ सीखो।बहिन जी हैं या फिर तुम्हारी माता जी। इन घटिया चीजों से यहाँ कुछ भी असर नहीं है।

Language: Hindi
82 Views
You may also like:
कोई पूछे की ग़म है क्या?
कोई पूछे की ग़म है क्या?
Ranjana Verma
साँवरिया तुम कब आओगे
साँवरिया तुम कब आओगे
Kavita Chouhan
ਮੁੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਨਗ ਮਾਹੀਆ।
ਮੁੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਨਗ ਮਾਹੀਆ।
Surinder blackpen
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नहीं उनकी बलि लो तुम
नहीं उनकी बलि लो तुम
gurudeenverma198
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
umesh mehra
साये
साये
shabina. Naaz
ह्रदय की कसक
ह्रदय की कसक
Dr. Rajiv
लाख कोशिश की थी अपने
लाख कोशिश की थी अपने
'अशांत' शेखर
यही इश्क़ तो नहीं
यही इश्क़ तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*
*"तिरंगा झंडा"*
Shashi kala vyas
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तारीख
तारीख
seema varma
💐प्रेम कौतुक-443💐
💐प्रेम कौतुक-443💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
कवि दीपक बवेजा
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
"यादें अलवर की"
Dr Meenu Poonia
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
Shekhar Chandra Mitra
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
विमला महरिया मौज
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Bhut khilliya udwa  li khud ki gairo se ,
Bhut khilliya udwa li khud ki gairo se ,
Sakshi Tripathi
■ जागो या फिर भागो...!!
■ जागो या फिर भागो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
वो चांद देखता है जरूर ,
वो चांद देखता है जरूर ,
Harshit Nailwal
प्रकृति का विनाश
प्रकृति का विनाश
Sushil chauhan
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
Ravi Prakash
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...