Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-311💐

तुमसे मैं कोई उम्मीद नहीं करता ऐसी कोई,
मेरे एतिबार का इम्तिहान ऐसे पयाम से लोगे,
मुझे जुड़ा ही पाओगे कभी आजमाकर देखो,
इस समुंदर में डुबकी लगा के कैसे निकलोगे।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

कॉलगर्ल, मूर्ख तुम्हारी कौन हैं।तमीज़ सीखो।बहिन जी हैं या फिर तुम्हारी माता जी। इन घटिया चीजों से यहाँ कुछ भी असर नहीं है।

Language: Hindi
344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-287💐
💐प्रेम कौतुक-287💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोनू की चतुराई
सोनू की चतुराई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
gurudeenverma198
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी पसंद
मेरी पसंद
Shekhar Chandra Mitra
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
जल संरक्षण बहुमूल्य
जल संरक्षण बहुमूल्य
Buddha Prakash
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
रंग आख़िर किसलिए
रंग आख़िर किसलिए
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
अपनी नज़र में खुद
अपनी नज़र में खुद
Dr fauzia Naseem shad
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
जब किसान के बेटे को गोबर में बदबू आने लग जाए
शेखर सिंह
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
Phool gufran
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
Manisha Manjari
2865.*पूर्णिका*
2865.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...