Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला

तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
फिर प्यार का हसीं वो ज़माना नहीं मिला

यूँ ज़िन्दगी में लोग तो मिलते रहे बहुत
पागल बना दे ऐसा दिवाना नहीं मिला

सपने जो हमने देखे अधूरे ही रह गए
वो अपनी चाहतों का ख़ज़ाना नहीं मिला

तुमसे मिलन की चाह तो दिल में बनी रही
मिलने का फिर भी कोई बहाना नहीं मिला

वैसे हर एक साज़ रहा ज़िन्दगी में पर
मदहोश कर दे ऐसा तराना नहीं मिला

परवाज़ ही हुनर को नहीं मिल सकी कभी
उस को तराश दे वो घराना नहीं मिला

सब कोशिशों के बाद भी एहसास है यही
हमको किसी के दिल में ठिकाना नहीं मिला

हम तुम जहाँ मिले थे जगह वो वहीं मिली
गुज़रा हुआ वो वक़्त पुराना नहीं मिला

थे साथ हम तो ‘अर्चना’ मौसम भी था हसीन
तुम बिन कभी सफ़र वो सुहाना नहीं मिला

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
Poonam Matia
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
कुदरत के रंग.....एक सच
कुदरत के रंग.....एक सच
Neeraj Agarwal
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
gurudeenverma198
🙏
🙏
Neelam Sharma
2570.पूर्णिका
2570.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
विदाई गीत
विदाई गीत
Dr Archana Gupta
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
Phool gufran
गंगा से है प्रेमभाव गर
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD CHAUHAN
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
★HAPPY BIRTHDAY SHIVANSH BHAI★
★HAPPY BIRTHDAY SHIVANSH BHAI★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
I know that you are tired of being in this phase of life.I k
I know that you are tired of being in this phase of life.I k
पूर्वार्थ
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
छलते हैं क्यों आजकल,
छलते हैं क्यों आजकल,
sushil sarna
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
DrLakshman Jha Parimal
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*प्रणय प्रभात*
"तिकड़मी दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...