Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

तुमसे इश्क करके हमने

तुमसे इश्क करके हमने
सब कुछ पाया,
बस इक तुम्हे छोड़ कर।

✍️ लक्ष्मी वर्मा ‘प्रतीक्षा’

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
मैं भारत हूं
मैं भारत हूं
Ms.Ankit Halke jha
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नहीं    माँगूँ  बड़ा   ओहदा,
नहीं माँगूँ बड़ा ओहदा,
Satish Srijan
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
वह नारी है
वह नारी है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
💐अज्ञात के प्रति-91💐
💐अज्ञात के प्रति-91💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
Dushyant Kumar
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...