Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

तुममें वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,,

तुममें मैं वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,
ढूंढती हूँ वो बीते लम्हे भी,
सच में,वो चाँद रात ढूंढती हूँ
तुममें मैं वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,,,,
*
वर्षों का बीतना न बदल पाया मुझे,
तुमने ठहराव को अपनाया ही नहीं,
लम्हा दर लम्हा,तुम बदलते रहे,
और,मुझे बदलना आया ही नहीं,
उसी मोड़ उसी चौराहे खड़ी,
रस्ता-ए-साथ ढूंढती हूँ,
तुममें मैं वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,
ढूंढती हूँ वो बीते लम्हे भी,
सच में,वो चाँद रात ढूंढती हूँ
तुममें मैं वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,,,,
*
वो सादगी,वो भोलापन,वो मासूमियत,
गुमते गुमते हो ही गयी न गुम,
शातिर ज़माने की आबोहवा तुम्हें,
उड़ाते उड़ाते ले ही गयी न चुन,
तुममें न जाने इतने पर भी क्यूँ,
मैं वो बागपन ढूंढती हूँ,
तुममें मैं वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,
ढूंढती हूँ वो बीते लम्हे भी,
सच में,वो चाँद रात ढूंढती हूँ
तुममें मैं वो पुरानी बात ढूंढती हूँ,,,,

****शुचि(भवि)****

Language: Hindi
2 Comments · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
फागुनी है हवा
फागुनी है हवा
surenderpal vaidya
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2448.पूर्णिका
2448.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Believe,
Believe,
Dhriti Mishra
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
लोग जीते जी भी तो
लोग जीते जी भी तो
Dr fauzia Naseem shad
" आशिकी "
Dr. Kishan tandon kranti
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
किस-किस को समझाओगे
किस-किस को समझाओगे
शिव प्रताप लोधी
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
Shekhar Chandra Mitra
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
होली मुबारक
होली मुबारक
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
Loading...