Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

*** तुझ सा इक दोस्त चाहिए ***

************* तुझ सा इक दोस्त चाहिए ***********

कहते हैं कहने वाले की दुनिया बड़ी खूबसूरत है
में कहता हूँ, कि आप हैं तो तब यह खूबसूरत है !!

न होते आप, तो कैसे चलता यह दुनिया का चलन
हर इंसान का एक दुसरे से, बताओ ? कैसे होता मिलन !!

बगिया तो ऊपर वाले ने कुछ सोच कर ही बनाई थी
एक एक चुन चुन का अपने हाथो से सजाई थी !!

पर कुछ रहनुमा हैं जिस के आशीर्वाद से हम जिन्दा हैं
बस आज के हालत देख कर ,सच बहुत शर्मिंदा हैं !!

आपसी भाईचारे को लोग यहाँ कॅश करने पर उतारू हैं
उन की नजर में तो जैसे सब यहाँ पर दोस्त बजारू हैं !!

अपने रूत्वे पर कभी घमण्ड न कर ओ दुनिया में मुसाफिर
उस की लाठी में आवाज नहीं होती ,वो कब बन जाये काफ़िर !!

प्यार की सौगात जो उस ने दी है, तू उस को यहाँ बांटता जा
“अजीत” तेरे जैसा यार सब को दे, यह दुआ तू करता हुआ जा !!

अजीत तलवार

Language: Hindi
304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नेता अफ़सर बाबुओं,
नेता अफ़सर बाबुओं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
चालवाजी से तो अच्छा है
चालवाजी से तो अच्छा है
Satish Srijan
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
वो और राजनीति
वो और राजनीति
Sanjay ' शून्य'
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नरभक्षी_गिद्ध
नरभक्षी_गिद्ध
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"इबारत"
Dr. Kishan tandon kranti
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
Loading...