Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

तुझे स्पर्श न कर पाई

जीवन में महत्व रखती
मेरे मन की स्थिरता
तुझे स्पर्श न कर पाई
मेरे शब्दों की व्याकुलता
हर श्वास पर भारी है
मेरे मन की विवशता
तुझसे और तुझी तक है
मेरे जीवन की सम्पूर्णता।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
4 Likes · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
"आत्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्यासा"मत घबराइए ,
Vijay kumar Pandey
भाई हो तो कृष्णा जैसा
भाई हो तो कृष्णा जैसा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
Rj Anand Prajapati
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
राम जैसा मनोभाव
राम जैसा मनोभाव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
.        ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
. ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
तलाक़ का जश्न…
तलाक़ का जश्न…
Anand Kumar
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
Ravi Prakash
यह रूठना मनाना, मनाकर फिर रूठ जाना ,
यह रूठना मनाना, मनाकर फिर रूठ जाना ,
कवि दीपक बवेजा
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
*Author प्रणय प्रभात*
"वो यादगारनामे"
Rajul Kushwaha
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तथागत प्रीत तुम्हारी है
तथागत प्रीत तुम्हारी है
Buddha Prakash
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
रोटियां जिनका ख़्वाब होती हैं
रोटियां जिनका ख़्वाब होती हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...