Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

तुझे देखने को करता है मन

तुझे देखने को करता है मन
बहुत याद कर तुझको रोता है दिल
तुम आओगी सदा सोचता हूं यही
मेरे दिल मे तेरी मुरत हैं ये कैसे कहे मन
कभी मिलोगी मुझे ये सोचता हैं मन
तुम कहा हो कैसे हो सोच सोच बहुत रोता हुं मै
इतनी दूर हो की मिलने आ नही सकता
बहुत याद कर रोता है मन
तुझसे मिलने को त
तरसता हैं मन बहुत याद करता है मेरा ये दिल

1 Like · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
"𝗜 𝗵𝗮𝘃𝗲 𝗻𝗼 𝘁𝗶𝗺𝗲 𝗳𝗼𝗿 𝗹𝗼𝘃𝗲."
पूर्वार्थ
हूं तो इंसान लेकिन बड़ा वे हया
हूं तो इंसान लेकिन बड़ा वे हया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
जन्माष्टमी महोत्सव
जन्माष्टमी महोत्सव
Neeraj Agarwal
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
■ अवध की शाम
■ अवध की शाम
*Author प्रणय प्रभात*
💐 Prodigy Love-5💐
💐 Prodigy Love-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
Er. Sanjay Shrivastava
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
गुप्तरत्न
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...