Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

तुझे क्या कहूँ

अपनों से गिला करूँ तो गैरों से क्या कहूँ।
वार जब अपने ही करें तो गैरों से क्या कहूँ।

बहुत आशनाई थी तुझे हमसे भरोसा जताया
लेकर मन के भेद प्यार से कहीं ओर ही बताया
जोड़ा रिश्ता मन से बता कर, तुझे क्या कहूँ ।

झूठ बोलना कभी आया नहीं, खुदा जानता है।
धोखा खाकर भी ये धोखा देना नहीं जानता है ।
गले में डाल बाँहें कुरेदा जख्म,तुझे क्या कहूँ।

दिया मान सम्मान पूरा बिना स्वार्थ के ही सदा।
तोड़ने को घर मेरा बने क्यों तुम कमजोर सिरा
नज़रों से गिरे ,दिल से,बहे अश्क तुझे क्या कहूँ।

पाखी

Language: Hindi
2 Likes · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंगों का बस्ता
रंगों का बस्ता
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नारी भाव
नारी भाव
Dr. Vaishali Verma
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
3135.*पूर्णिका*
3135.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
सनम
सनम
Sanjay ' शून्य'
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
"संकेत"
Dr. Kishan tandon kranti
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
मच्छर
मच्छर
लक्ष्मी सिंह
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
#स्पष्टीकरण-
#स्पष्टीकरण-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...