Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA

आदमी मरने के बाद कुछ नहीं बोलता
स्वाभाविक स्थिति!
दलित मरने के पहले कुछ नहीं बोलता
अस्वाभाविक स्थिति!!
दलित को आदमी नहीं भी कहा जा सकता
स्वाभाविक स्थिति!!!

Language: Hindi
205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
"तकरार"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद से खुद को
खुद से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
पराया हुआ मायका
पराया हुआ मायका
विक्रम कुमार
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
*वे ही सिर्फ महान : पाँच दोहे*
*वे ही सिर्फ महान : पाँच दोहे*
Ravi Prakash
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
DrLakshman Jha Parimal
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
Er. Sanjay Shrivastava
जवाला
जवाला
भरत कुमार सोलंकी
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
"मुझे हक सही से जताना नहीं आता
पूर्वार्थ
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
*निरोध (पंचचामर छंद)*
*निरोध (पंचचामर छंद)*
Rituraj shivem verma
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
*Author प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
छोटी-छोटी खुशियों से
छोटी-छोटी खुशियों से
Harminder Kaur
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...