Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

तीन शेर

तीन शेर

दिया है जब हमें बचपन, तो थोड़े पैसे भी देते
बहुत महॅंगे खिलौने हैं, कहाँ से हम खरीदेंगे ?

मुलाकातें तो दो मिनटों में साहिब से करा हूँ मैं
मगर तुम सौ बरस में प्रेम करना कैसे सीखोगे ?

समस्याओं को भी हमने कभी बेकार कब समझा
हमें संघर्ष की ताकत समस्याओं से मिलती है
—————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
Tag: शेर
101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
'अकेलापन'
'अकेलापन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
■ लघुकथा / इंतज़ार
■ लघुकथा / इंतज़ार
*Author प्रणय प्रभात*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फन कुचलने का हुनर भी सीखिए जनाब...!
फन कुचलने का हुनर भी सीखिए जनाब...!
Ranjeet kumar patre
वक्त
वक्त
Astuti Kumari
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
विनती
विनती
Kanchan Khanna
लुगाई पाकिस्तानी रे
लुगाई पाकिस्तानी रे
gurudeenverma198
सब कुछ खत्म नहीं होता
सब कुछ खत्म नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan sarda Malu
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
Sanjay ' शून्य'
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
Loading...