Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

तीन दशक पहले

तीन दशक पहले
सुविधाएं कम थीं और
सुक़ून बहुत अधिक।
आज सुविधा कितनी हो,
सुक़ून लगभग ग़ायब सा है।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*Author प्रणय प्रभात*
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची  हैं उड़ाने,
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची हैं उड़ाने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
.
.
Amulyaa Ratan
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
बस यूँ ही...
बस यूँ ही...
Neelam Sharma
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
💐प्रेम कौतुक-423💐
💐प्रेम कौतुक-423💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
*जाने कैसा रंग था, मुख पर ढेर गुलाल (हास्य कुंडलिया)*
*जाने कैसा रंग था, मुख पर ढेर गुलाल (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बिल्ली कहती म्याऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
** स्नेह भरी मुस्कान **
** स्नेह भरी मुस्कान **
surenderpal vaidya
कविता - नदी का वजूद
कविता - नदी का वजूद
Akib Javed
An Evening
An Evening
goutam shaw
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
Shekhar Chandra Mitra
Loading...