Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

*तितली आई 【बाल कविता】*

तितली आई 【बाल कविता】
★★★★★★★★★★★★★★
तितली आई उड़ते-उड़ते
दाऍं-बाऍं मुड़ते-मुड़ते

राजू का दिल उस पर आया
उसे पकड़ने हाथ बढ़ाया

तितली बोली “मर जाऊॅंगी
नहीं कभी अब फिर आऊॅंगी”

राजू बोला “प्यारी बहना !
माफ करो ,मानूंगा कहना ”
——————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

873 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
पास तो आना- तो बहाना था
पास तो आना- तो बहाना था"
भरत कुमार सोलंकी
छोड़ कर तुम मुझे किधर जाओगे
छोड़ कर तुम मुझे किधर जाओगे
Anil chobisa
एकांत
एकांत
Monika Verma
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
सोच के दायरे
सोच के दायरे
Dr fauzia Naseem shad
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
बुद्ध
बुद्ध
Bodhisatva kastooriya
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
पं अंजू पांडेय अश्रु
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
VINOD CHAUHAN
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
नूर ए मुजस्सम सा चेहरा है।
नूर ए मुजस्सम सा चेहरा है।
Taj Mohammad
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
2602.पूर्णिका
2602.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
Paras Nath Jha
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
Ravi Prakash
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
Loading...