Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2023 · 1 min read

तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं

तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
जाने वो क्यों रूठते हैं, क्या करूँ मैं
बेवफ़ा है, संगदिल भी यार मेरा
रोज़ मुझको भूलते हैं, क्या करूँ मैं
महावीर उत्तरांचली

1 Like · 298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
#प्रणय_गीत-
#प्रणय_गीत-
*प्रणय प्रभात*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
दीदार
दीदार
Vandna thakur
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Lokesh Sharma
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
शेखर सिंह
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
"शख्सियत"
Dr. Kishan tandon kranti
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
Loading...