Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

*तारों की तरह चमकना (बाल कविता)*

तारों की तरह चमकना (बाल कविता)
________________________
आसमान में तारे देखे
फिर माँ ने व्रत खोला
पास खड़ा चंदामामा
माँ का भाई मुँहबोला

माँ बोली “मेरे बच्चों
तारों की तरह चमकना
इतने उठो गगन को छू-लो
चलते कभी न थकना

मैं धरती, आकाश बनो तुम
मेरा इतना सपना
सब कुछ दिया तुम्हें
अब बाकी मेरा रहा न अपना ।”
————————–
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
2777. *पूर्णिका*
2777. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पल
पल
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
😢हे माँ माताजी😢
😢हे माँ माताजी😢
*प्रणय प्रभात*
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
सत्य कुमार प्रेमी
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#हौंसले
#हौंसले
पूर्वार्थ
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
अब ये ना पूछना कि,
अब ये ना पूछना कि,
शेखर सिंह
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"कुछ अइसे करव"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...