Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2023 · 1 min read

तारीफ……. तुम्हारी

तेरी मेरी चाहत की तारीफ करते हैं।
सच और फरेब की सोच रहती हैं।

हां हमसफ़र से तारीफ करते हैं
बीते पल और लम्हों को याद करते हैं।

जवानी और बुढ़ापे की तारीफ में हम कहते हैं।
समय बीतता और बदलाव लेकर हम सोचते हैं।

जिंदगी के रंगमंच में तारीफ तो हम सभी करते हैं।
हकीकत के साथ हम सभी अपने रिश्ते बताते हैं।

तारीफ में हम सभी की अपनी अपनी समझ होती हैं।
आज आधुनिक परिवेश में हम सभी की एक सोच हैं।

हम सभी जीवन में तारीफ एक दूसरे की करते हैं।
हां सच तो यही हम सभी को सहयोग मिलता हैं।

चाहत मोहब्बत में हम सभी अपने की तारीफ करते हैं।
जीवन भर का साथ हमजोली बनकर संग निभाना हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
प्रेम समर्पण की अनुपम पराकाष्ठा है।
प्रेम समर्पण की अनुपम पराकाष्ठा है।
सुनील कुमार
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
पूर्वार्थ
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
अब देर मत करो
अब देर मत करो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
"सँवरने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
अश्क चिरैयाकोटी
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-266💐
💐प्रेम कौतुक-266💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
Loading...