Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2023 · 1 min read

तहरीर

#justareminderekabodhbalak
#drarunkumarshastriblogger

भूल जाना किसी को, बहुत आसान है,
गम किसी का मिटाने में सदियां लगें ।

आदमी- आदमी से है अब बचने लगा,
ऑन लाईन अलंकरण सजाना अलग बात है।

मैं न कहता, तुम, मिरी बात को मान लो,
सत्य देखो अगर , बस उसे ही जान लो ।

जिंदगी में अगर कोई प्यारा सा इंसा मिले,
पास बैठो ज़रा, दर्द को थाम लो ।

वक्त है ही कहाँ , अब किसी के लिए
अपनी – अपनी जगह सब परेशान है ।

शक्ल पे तो अब ज़रूरत नहीं ध्यान की
अक्ल होगी तो दोस्ती दौड़ कर आएगी ।

मुझको देखो नही मुझको सुनना नही ,
इक अबोध की तो सुनो, उसकी ही मान लो ।

1 Like · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
पूर्वार्थ
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक "रामपुर के रत्न" का लोकार्पण*
Ravi Prakash
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
"जगदलपुर"
Dr. Kishan tandon kranti
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बिटिया  घर  की  ससुराल  चली, मन  में सब संशय पाल रहे।
बिटिया घर की ससुराल चली, मन में सब संशय पाल रहे।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चला मुरारी हीरो बनने ....
चला मुरारी हीरो बनने ....
Abasaheb Sarjerao Mhaske
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
Anamika Tiwari 'annpurna '
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
SPK Sachin Lodhi
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
गुमनाम 'बाबा'
लेखनी का सफर
लेखनी का सफर
Sunil Maheshwari
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
Bidyadhar Mantry
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
Loading...