Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Apr 2024 · 1 min read

तल्खियां

चोट शब्दो के न सह पाते, जिनका स्वाभिमान होता है।
वो घाव गहरी दे जाता है जो, शख्स बद्दजबान होता है।।

किसी और कि क्या बिसात, ऐसे रिश्ते बिगाड़ दे आकर।
रिश्ता तब बिगड़ता है जब, कोई अपना बेईमान होता है।।

दर्द तभी तक है जानता, जबतक खाल में होता है नाखून।
खाल से निकलते ही इसका, कट जाना असान होता है।।

फर्क बहोत पड़ता था तब, जब हम भी थे हिस्से उन्ही के।
बेफिक्री आ जाती है जब, अकेलेपन का गुमान होता है।।

बहोत बोलने वाला इंसा भी, जब गुमसुम सा रहने लगे।
उसके ज़ेहन में जरूर कोई, ज़ख्म का निशान होता है।।

बिना बात पर भी बेबाकी से, क्यों मुस्कुरा देता हूँ सुन लो।
भुलाकर तल्खियां अपनो के, कहाँ हँसना आसान होता है।।

©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित २४/०४/२०२४)

1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
कोहरा काला घना छट जाएगा।
कोहरा काला घना छट जाएगा।
Neelam Sharma
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
जीवन का मूल्य
जीवन का मूल्य
Shashi Mahajan
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"माटी-तिहार"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जिन स्वप्नों में जीना चाही
जिन स्वप्नों में जीना चाही
Indu Singh
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3487.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3487.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
ललकार भारद्वाज
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
जीत जुनून से तय होती है।
जीत जुनून से तय होती है।
Rj Anand Prajapati
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*प्रणय प्रभात*
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
शेखर सिंह
Loading...