Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

तलाशता हूँ उस “प्रणय यात्रा” के निशाँ

बेखयाली में अभी भी सागर की उस नरम रेत पर
आज भी जाता ही हूँ तलाशने
तुम्हारे पैरों के निशाँ
सालों पहले जिन्हे बस अठखलियों में ही
अल्हड़ लहरों ने मिटा डाला था

प्रण यही था – ना वापस आऊंगा कभी
पर ये पैरों में रेत जो थे फँस गए
नुकीली यादों की तरह

हर शाम सम्मोहित कर हमें
ले आती हैं यहीं
ना जाने कब के मिट चुके
उस “प्रणय यात्रा” के निशाँ ढूंढते ढूंढते

Language: Hindi
38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
विवेक
विवेक
Sidhartha Mishra
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
■ आज का अनूठा शेर।
■ आज का अनूठा शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
'एकला चल'
'एकला चल'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
11, मेरा वजूद
11, मेरा वजूद
Dr Shweta sood
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल कि गली
दिल कि गली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-503💐
💐प्रेम कौतुक-503💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अध्याय 9*
*अध्याय 9*
Ravi Prakash
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
राम नाम की धूम
राम नाम की धूम
surenderpal vaidya
"बागबान"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
फ़र्क़..
फ़र्क़..
Rekha Drolia
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
23/196. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/196. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
Neelam Sharma
Loading...