Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2022 · 3 min read

तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण

तमाल छंद विधान – मात्रिक छंद (परिभाषा)

छंद शास्त्र के अनुसार तमाल छंद महापौराणिक जाती का 19 मात्रिक छंद है। ये एक सम मात्रिक छंद है। इसमें चार चरण होते है

दो दो अथवा चारो चरणों में तुकांत कर सकते है
चरण के अंत में गुरु लघु ( गाल 21 ) होना अनिवार्य है।

विधानुसार यदि #चौपाई_छंद में एक गुरु और एक लघु चरणांत में जोड़ दिया जाय तब #तमाल_छंद बन जाता है।

चौपाई छंद का विधान सर्वविदित है , जो कि निम्न है-

चौपाई छंद ~चौकल और अठकल के मेल से बनती है।
चार चौकल, दो अठकल या एक अठकल और दो चौकल किसी भी क्रम में हो सकते हैं। समस्त संभावनाएँ निम्न हैं।
4-4-4-4, 8-8, 4-4-8, 4-8-4, 8-4-4

चौपाई में कल निर्वहन केवल चतुष्कल और अठकल से होता है। अतः एकल या त्रिकल का प्रयोग करें तो उसके तुरन्त बाद विषम कल शब्द रख समकल बना लें। जैसे 3+3 या 3+1 इत्यादि।

चौकल = 4 – चौकल में चारों रूप (11 11, 11 2, 2 11, 22) मान्य रहते हैं।

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
वर्तमान में कुछ बंधु मात्रिक छंदो को वार्णिक मापनी से समझा रहे है , जो हमारे गले नहीं उतरता है और न हम इसके पक्षकार है | आजकल ऐसे ही अन्य छंदो को लेकर मंचो पर प्रलाप चल रहें है |
पर हम इन सबसे दूर है ,| मात्रिक छंदो को वार्णिक मापनी की तरह लिखना समझ से परे है 🙏
~~~~~~~~~~~~~~~~
उदाहरण –

तमाल छंद

मीठी वाणी जिसकी सुनते आप |
उसके घर यश की लग जाती छाप ||
कटुु वचनों से जो उच्चारें गान |
अपयश उसके घर में आया जान ||

ह्रदय हीन नर पत्थर माने लोग |
दया छोड़ कटुता का जाने रोग ||
नहीं समझते क्या होता ईमान |
दूर रहें सब करें नही पहचान ||

जुता बैल -सा मानव घूमें रोज |
राग द्वेष की करनी लेता खोज ||
छल छंदो की पढ़े कहानी खूब |
मीठे फल तज खाता रहता दूब ||

जिनकी कथनी करनी रहती भिन्न |
देखा उनको रहते हरदम खिन्न ||
नहीं मानते कभी किसी की बात |
घाते करने लगे रहे दिन रात ||

छेद करे जो पत्तल में ही आन |
शत्रु अकल का पूरा उसको मान ||
दूजो की जो छीना करता मोज |
अपना घायल करता है वह ओज ||

रोते रहते जीवन भर जो लोग |
स्थाई डेरा डाले रहता रोग ||
बेईमानी का करते जो गान |
उनके घर में रहता है शैतान ||

रहती खुद बेचैनी उनको यार |
आती खोटी बातें जिनको रार ||
देते रहते जो सबको ही घात |
रहती उनकी हरदम काली रात ||

कहता सच वह प्यारा होता यार |
पाता रहता सबकी नजरों प्यार ||
जिसके मन में रहता निश्छल प्रेम |
उसकी देखी सदा कुशलता क्षेम ||

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~~~

तमाल छंद मुक्तक ~

देखी चम्पा की फुलवारी शान |
भँवरा उसका करे नहीं सम्मान |
मधुप न रहता जिसके घट में खास ~
जग में उससे कौन करे पहचान |

लोभी का धन कपटी लेता मार |
देता‌ उसको मौके पर ही खार |
धन पर जो भी नर करते है मान ~
उनको धन ही करता तब बेकार |

सुभाष सिंघई
~~~~~~~
गीत , आधार – तमाल छन्द

गुरुवर के चरणों को समझो आज‌ | (मुखड़ा )
चरण सरोवर पूरण करते काज || ( टेक)

गुरुवर के अनुपम ही होते हाथ | (अंतरा )
सदा शिष्य को अपना देते साथ ||
समझे गुरुवर को जो चारों धाम.|
उसको जीवन में मिल जाते राम ||

गुरुवर जीवन में जानो गिरिराज |( पूरक)
चरण सरोवर पूरण करते काज || ( टेक)

हर पथ पर. गुरुवर होते है भान | (अंतरा)
गुरु होते अपने कौशल की शान ||
गुरु का जो कहलाता है परिवार |
उसमें हम सब होते है तैयार ||

गुरुवर जीवन को देते आगाज | ( पूरक)
चरण सरोवर पूरण करते काज ||( टेक)

गुरुवर मानो जीवन में सौगात |अंतरा
दिन में दिनकर शशि होते है रात ||
अमरत होता उनका बाँटा नेह |
शिक्षा मंदिर जैसा उनका गेह ||

सदा सत्य की गुरु होते आबाज |पूरक
चरण सरोवर पूरण करते काज ||टेक

सुभाष सिंघई

~~~`~~~~~~~

गीतिका अपदान्त. ~आधार छन्द. तमाल

द्वार हृदय का अपना सुंदर खोल |
मुख से बोलो वाणी कुछ अनमोल ||

कितने दिन का पा़या है संसार ,
पता नहीं कब कितना बाजे ढोल |

आज सभी बन सकते अपने मीत ,
मीठे रखिए मुख से निकले बोल |

इधर -उधर हम. रहे भटकते खूब ,
सोना पाकर रेती ‌ को मत तोल |

चिंतन. रहता जिस आंगन का फूल ,
सच में जानो वहाँ न कोई झोल |

सुभाष सिंघई √

~~~~~~~~~~~~~

तमाल छंद अपदांत गीतिका ~

सुखी नहीं ज्ञानी का सुनकर ज्ञान |
मानव. रहता अब हरदम हैरान ||

रोग शोक का यह संसारा यार ,
जुते बैल सी बना रखी पहचान |

तृष्णा माया का जयकारा रोज ,
है हैरानी करते उसका गान ||

अपनी धुन में अब नर मानें रार ,
भटका भूला धूलि रहा है छान |

जो नर मूरख को समझाता खूब |
वह खुद मूरख बन जाता श्रीमान ||

सुभाष सिंघई जतारा ( टीकमगढ़) म० प्र०
~~~~~~~~~~~~~~

आलेख ~ #सुभाष_सिंघई , एम. ए. हिंदी साहित्य , दर्शन शास्त्र , निवासी जतारा ( टीकमगढ़ ) म० प्र०

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 833 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहा तुमने कभी देखो प्रेम  तुमसे ही है जाना
कहा तुमने कभी देखो प्रेम तुमसे ही है जाना
Ranjana Verma
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
माँ ( कुंडलिया )*
माँ ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
*Author प्रणय प्रभात*
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
मन में नमन करूं..
मन में नमन करूं..
Harminder Kaur
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज का यथार्थ~
आज का यथार्थ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
स्वीटी: माय स्वीट हार्ट
Shekhar Chandra Mitra
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
2710.*पूर्णिका*
2710.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
Loading...